GURUTVA KARYALAY


विश्वंभरी स्तुति

पोस्ट सौजन्य: स्वस्तिक, स्वस्तिक सोफ्टेक इन्डिया

>> Read In English, Gujrati Click Here

 

विश्वंभरी अखिल विश्वतणी जनेता।

विद्या धरी वदनमां वसजो विधाता॥

दुर्बुद्धि दुर करी सद्दबुद्धि आपो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥१॥

 

भूलो पडि भवरने भटकुं भवानी।

सुझे नहि लगीर कोइ दिशा जवानी॥

भासे भयंकर वळी मनना उतापो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥२॥

 

रंकने उगरवा नथी कोइ आरो।

जन्मांध छु जननी हु ग्रही हाथ तारो॥

ना शुं सुणो भगवती शिशुना विलापो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥३॥

 

मा कर्म जन्म कथनी करतां विचारु।

सृष्टिमां तुज विना नथी कोइ मारु॥

कोने कहुं कठण काळ तणो बळापो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥४॥

 

हुं काम क्रोध मध मोह थकी भरेलो।

आडंबरे अति धणो मद्थी छकेलो॥

दोषो बधा दूर करी माफ पापो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥५॥

 

ना शास्त्रना श्रवणनु पयःपान पीधु।

ना मंत्र के स्तुति कथा नथी काइ कीधु॥

श्रद्धा धरी नथी कर्या तव नाम जापो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥६॥

 

रे रे भवानी बहु भूल थई मारी।

जिंदगी थई मने अतिशे अकारी॥

दोषो प्रजाळि सधळा तव छाप छापो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥७॥

 

खाली कोइ स्थळ छे विण आप धारो।

ब्रह्मांडमां अणु-अणु महीं वास तारो॥

शक्ति माप गणवा अगणित मापो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥८॥

 

पापो प्रपंच करवा बधी रीते पूरो।

खोटो खरो भगवती पण हुं तमारो॥

जाडयांधकार करी दूर सुबुद्धि स्थापो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥९॥

 

शीखे सुणे रसिक छंद एक चित्ते।

तेना थकी त्रिविध ताप टळे खचिते॥

बुद्धि विशेष जगदंब तणा प्रतापो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥१०॥

 

श्री सदगुरु शरनमां रहीने यजुं छुं।

रात्रि दिने भगवती तुजने भजुं छु॥

सदभक्त सेवक तणा परिताप चापो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥११॥

 

अंतर विषे अधिक उर्मि थतां भवानी।

गाऊ स्तुति तव बळे नमीने मृडानी॥

संसारना सकळ रोग समूळ कापो।

माम् पाहि भगवती भव दुःख कापो ॥१२॥

 

Make a Free Website with Yola.